Feb 18, 2013

CHINGAARI BUJHANI NA CHAHIYE





fpaxkjh cq>uh u pkfg,

mBh gS tks fpaxkjh nkfeuh dh ekSr ls
vc fdlh gky es cq>uh u pkfg,
nhft, gok vius bdjkj dh
fd ‘kksyk cu ds mBuh pkfg,
jf[k, utj gSokfu;r ijLrks ij
dqpy nhft, fd Qu muds mBus u pkfg,
vc fdlh vkSj nkfeuh dk nkeu u nkxnkj gks
,d gksdj vc gekjk nq’euks ij okj gks
gkFkks esa gekjs u canwd gks] u ryokj gks
nq’euks dks gjkus dks dkuwu dh rh[kh /kkj gks
dke gS ;s eqf’dy cgqr] exj ukeqefdu ugh
rst feydj tks pyrs gSa] ;gkWa thrrs gSa ogh





uthi hai jo chingaari Damini ki maut se
ab kisi haal men bujhani na chahiye
deejiye hawa apne ikraar kee
ki shola ban ke uthani chahiye
rakhiye nazar haivaniyat paraston par
kuchal deejiye ki fun unke uthane na chahiye  
ab kisi aur Damini ka daman na dagdar ho
ek hokar ab hamara dushmano par waar ho
hatho men hamare na bandook ho na talwar ho
dushman ko harane ko kanoonki tikhi dhaar ho
kaam hai ye mushkil bahut , magar namumkin nahi
Tej milkar jo chalet hain, yahan jeetate hain wahi






5 comments:

  1. बहुत शानदार प्रस्तुति,,,हिंदी में प्रकाशित करे ,,,

    recent post: बसंती रंग छा गया

    ReplyDelete
  2. अच्छी रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  3. आज आपकी कविता हिंदी में नहीं दिख रही ...

    ReplyDelete
  4. चिंगारी बुझनी न चाहिए

    उठी है जो चिंगारी दामिनी की मौत से
    अब किसी हाल मे बुझनी न चाहिए
    नजीप ींप रव बीपदहंतप क्ंउपदप ाप उंनज ेम
    ंइ ापेप ींस उमद इनरींदप दं बींीपलम
    दीजिए हवा अपने इकरार की
    कि षोला बन के उठनी चाहिए
    कममरपलम ींूं ंचदम पातंत ामम
    ाप ेीवसं इंद ाम नजींदप बींीपलम
    रखिए नजर हैवानियत परस्तो पर
    कुचल दीजिए कि फन उनके उठने न चाहिए
    तंाीपलम दं्रंत ींपअंदपलंज चंतंेजवद चंत
    ानबींस कममरपलम ाप निद नदाम नजींदम दं बींीपलम
    अब किसी और दामिनी का दामन न दागदार हो
    एक होकर अब हमारा दुष्मनो पर वार हो
    ंइ ापेप ंनत क्ंउपदप ां कंउंद दं कंहकंत ीव
    मा ीवांत ंइ ींउंतं कनेीउंदव चंत ूंत ीव
    हाथो में हमारे न बंदूक हो, न तलवार हो
    दुष्मनो को हराने को कानून की तीखी धार हो
    ींजीव उमद ींउंतम दं इंकववा ीव दं जंसूंत ीव
    कनेीउंद ाव ींतंदम ाव ांदववदाप जपाीप कींत ीव
    काम है ये मुष्किल बहुत, मगर नामुमकिन नही
    ष्तेजष् मिलकर जो चलते हैं, यहॉं जीतते हैं वही
    ांउ ींप लम उनेीापस इंीनज ए उंहंत दंउनउापद दंीप
    ज्मर उपसांत रव बींसमज ींपदए लंींद रममजंजम ींपद ूंीप

    आपकी कविता मुझे फांट बदल कर पढनी पड़ी ....

    जोश का ये दीप जलता रहे .....!!

    ReplyDelete